बोधगया नगर परिषद के कनिया अभियंता की अविलंब गिरफ्तारी को लेकर DWO ने सौंपा ज्ञापन

बोधगया में कार्यरत नगर परिषद में कार्यरत सहायिका आशा कुमारी के साथ कनीय अभियंता ओमप्रकाश द्वारा यौन उत्पीड़न तथा जबरन रेप की कोशिश का मामला ने और भी तूल पकड़ लिया है. दाँगी वर्ल्ड आर्गेनाईजेशन ने आरोपी कनीय अभियंता ओमप्रकाश की अविलंब गिरफ्तारी को लेकर गया एसएसपी, डीएम, प्रमंडलीय आयुक्त को ज्ञापन सौंपा है. इसकी जानकारी देते हुए महिला विंग कि जिलाध्यक्ष अंजू रानी ने बतायी कि पीड़िता के घर जब पहुंचे तो नगर परिषद् और बोधगया थाना से जुड़े कई गंभीर मामले उजागर हुए हैं. केश के आईओ प्रदीप सिंह और आरोपी ओमप्रकाश दोनों एक ही जाति के हैं. रिश्तेदारी के कारण पीड़ित आशा देवी द्वारा लगाए गये संगिन धाराओं को कम करके उलटे आरोपी के पत्नि प्रतिमा देवी से केश करा दिया गया है.
नगर परिषद बोधगया वर्षो पूर्व से भ्रष्टाचार में डूबा है। ओमप्रकाश सिंह फर्जी प्रमाण पत्र पर कनीय अभियंता के पद पर बहाल है। ओमप्रकाश की डिग्री का जांच से यह स्पष्ट हो जाएगा। बताया यह भी जाता है कि उसे वरिष्ट अधिकारियों का संरक्षण प्राप्त है। आपको बतादें कि हालहीं में यहां पदस्थापित तत्कालिक कार्यपालक पदाधिकारी कुमारी हिमानी घोटाला के आरोप में जेल में जा चुकी हैं। कनीय अभियंता ओमप्रकाश पर भी अब तक कई दर्जन घुसखोरी और संगिन आरोप लग चुके हैं उल्टे बोधगया थाना लिपापोती करने में जुटी है।
इस मौके पर दाँगी वर्ल्ड आर्गेनाइजेशन के जिलाध्यक्ष मणि भूषण दांगी, राजनीतिक मोर्चा के प्रदेश महासचिव अजीत कुमार लोहिया, पद्मिनी सेना की अध्यक्षा शकुंतला सिन्हा, सुषमा कुमारी आदि दर्जनों लोग शामिल थे.

DWO ने वेब सीरीज छत्रसाल पर रोक लगाये जाने एवं प्रोडयूसर अनादि चतुर्वेदी के खिलाफ कानूनी कारवाई करने को लेकर गया DM अभिषेक सिंह को सौपा ज्ञापन

GAYA.
एम.एक्स.प्लेयर पर चलाये जा रहे वेब सीरीज छत्रसाल के एपीसोड नंबर-13 पर रोक लगाये जाने एवं प्रोडयूसर अनादि चतुर्वेदी के खिलाफ कानूनी कारवाई करने के लिए गया जिला पदाधिकारी अभिषेक सिंह को ज्ञापन सौपा है. इस बीच दांगी वर्ल्ड ऑर्गनाइजेशन के जिलाध्यक्ष मणिभूषण दांगी ने मीडिया कर्मियों को बताया कि
सेवा में,
एम.एक्स.प्लेयर द्वारा चलाये जा रहे वेब सीरीज छत्रसाल में बुंदेलखंड का वर्तमान और भविष्य औरंगजेब को बताया जाना इतिहास से परे है।

Web सीरीज MX player के निर्माता और निदेशक अनादि चतुर्वेदी द्वारा एपिसोड नं- 13 में
छत्रसाल के दरवार में मनसा के जगीरदार केशव राय दांगी को दिखाया जा रहा है कि वे मुग़ल शासक औरंगजेब का पक्ष रख रहे हैं. लेकिन इतिहास में इस तरह की घटना का वर्णन ही नहीं है. सीरीज में अभिनय और पात्र से समाज को कड़ी आपत्ति है. माफीनामा
भरी दरबार में मुगलों का गुलाम और औरंगजेब के तलवे चाटने वाला शब्द का प्रयोग कर उन्हें अपमानित करने का कुत्सित कार्य किया गया है. इतिहास को तोड़ मरोड़कर दिखाया जाना राजाओं के सम्मान के खिलफ है।
बुंदेलखंड का संक्षिप्त इतिहास, हिस्ट्री ऑफ बुंदेला, जिला के गजटियर आदि लिखित सारे प्रमाणिक गजटियर से यह स्पष्ट होता है कि छत्रसाल के दरवार में केशव राय दाँगी कभी नहीं गये थे. दाँगी वीर योद्धा का रोल निभाने वाला व्यक्ति भी वीर योद्धा कि भूमिका में नहीं है , ऐसे मनगढ़ंत कहानी दिखाकर इतिहास को सच के बजाय झूठ दिखाकर हमारे मध्य भारत के बड़े जागीरदार,बाँसा के वीर योद्धा राजा केशव राय दांगी जी के राष्ट्रभक्ति पर प्रश्नचिन्ह लगाया गया है.
एक महान राजा के चरित्र एवं उनकी छवि को कुत्सित भावना से अपमानितकरना, सत्य से परे, मनगढ़ंत, अप्रमाणिक और कुत्सित दिमाग की उपज यह प्रसारण अति आपत्तिजनक है. इसे देश के समस्त हिन्दुओं और दाँगी समाज की भावनाओं को ठेस पहुंचा है एवं समाज कलंकित हुआ है.
सीरीज में मुगल शासक औरंगजेब का पक्ष रखते हुए औरंगजेब के तलवे चाटने वाले शब्दों का प्रयोग कर अपमानित करने का कार्य किया गया है, जो इतिहास से कहीं मेल नहीं खाता है और पूर्ण रूप से गलत है। जागीरदार केशव राय दांगी के किस्से आज भी पूरे भारत में शान से सुने और पढ़े जाते हैं. उनकी शक्ति के सामने मुगल सिर उठाने की हिम्मत नहीं करते थे, मुगल के सरहद में प्रवेश से भय खाते थे. इनके आसपास के क्षेत्रों में मुगलों की चौकियों का भी कहीं जिक्र नहीं मिलता.
ऐसे में एक समाज विशेष की देशभक्ति और महाराजा कि राष्टभक्ति और धार्मिक भावनाओं पर सीध प्रहार किया जा रहा है।
इस घटना से संपूर्ण भारत के युवाओं में रोष व्याप्त है. DWO एवं देश भर के युवाओं ने छत्रशाल वेब सीरीज को बंद कराने, प्रोडयूसर अनादि चतुर्वेदी पर क़ानूनी करवाई, कलाकार बदलनेऔर इससे जुड़े सभी दोषी लोगों पर कड़ी करवाई करने कि माँग किया है.
इस मौके पर प्रदेश पॉलटिक्स विंग के महासचिव दांगी अजीत कुमार लोहिया,महिला विंग के जिलाध्यक्ष दांगी अंजू रानी और प्रदेश सांस्कृतिक को-ऑडिनेटर दांगी सोनू कुमार दिनकर जी के साथ अन्य लोग उपस्थित थे ।