स्वर्णिम भारत के आजादी के 74वर्षों के बाद का भारत

  • शीर्षक: स्वर्णिम भारत के आजादी के 74वर्षों के बाद का भारत

    अगर आज हमारा तिरंगा आजादी के इतने वर्षों बाद भी बड़े आन बान शान के साथ लहरा रहा है| इसका पूरा श्रेय हमारे देश के वीर सैनिकों को, स्वतंत्रता संग्राम में भाग लेने वाले हर एक नागरिकों को, इस आजादी की लड़ाई में प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रूप से भाग लेने वाले महिला-पुरुष बच्चे-बूढ़े व नौजवानों को जाता है|जो हर कठिन व विषम परिस्थितियों को सहकर भारत माता के इस तिरंगे के लिए अपने खून से इतिहास लिखने के लिए तैयार रहते है| आज उन्हीं के शौर्य और पराक्रम के बदौलत आजाद देश में आजाद नागरिक के रूप में आजादी की सांस ले रहे हैं और गुलामी के उन बेड़ियों से पूर्ण रूप मुक्त है|

    आज आजाद भारत की बात करेंगे| हां,आजादी के 74 वर्षों के बाद के भारत की बात करेंगे आजादी के 74 वर्षों के बाद के भारत में भी आमजन की स्थिति परिस्थिति काफी दुखदायी,सोचनीय व विचारणीय है|

    15 अगस्त 2021 को हम सभी भारतवासी भारत माता के तिरंगे के नीचे खड़े होकर आजादी के 75 वीं वर्षगांठ को बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मना रहे होंगे| सचमुच यह पावन दिन स्वर्णिम है| लेकिन आजादी के 74वर्षों बाद भी हम भारतवासी कंधे से कंधा मिलाकर चलने में भी कहीं ना कहीं लड़खड़ा जाते हैं| क्योंकि आज के भारत में लगातार शिक्षा का निजीकरण हो रहा है गरीब गरीब होते जा रहे हैं अमीर अमीर होते जा रहे हैं गरीबी और अमीरी की खाई लगातार चौड़ी होती जा रही है|

    महिलाएं गरीब तबके के लोग आज भी गांव,घर ,समाज में घुटन के माहौल में जी रहे है| आज भी समाज के अंदर कई तरह की सामाजिक कुरीतियों का बोल बाला है दहेज प्रथा,शोषण ,मृत्यु भोज आदि| आजादी के इतने वर्षों के बाद भी भारत में यदि आमजन खुद को आजाद महसूस करते तो कहीं न कहीं देश की राजधानी दिल्ली में निर्भया जैसे कांड व हाल ही में दिल्ली में घटी घटना बच्ची के साथ जो हैवानियत की गई इसके अलावे न जाने कई दरिंदगी होती रहती है जो मानवता को शर्मसार कर देने वाली होती है|

    क्या ऐसे ही आजाद भारत का सपना था? ऐसी घटनाएं आजाद भारत में कहीं न कहीं मानवता को शर्मसार कर देने वाली घटनाएं में से है| आज गरीबी भुखमरी भारत के आम जनमानस में एक आम समस्या सी बन कर रह गई है| एक बहुत बड़ा तबका एक वक्त के सुखी रोटी के लिए भी दर दर की कई ठोकरें खा रहा है| सरकारी संस्थानों में भी भ्रष्टाचार व्याप्त है|

    यह आजादी,यह आजाद भारत हमें कोई उपहार स्वरूप नहीं मिली है| इस आजाद भारत को पाने के लिए लाखों कुर्बानियां दी गई है ताकि आने वाली पीढ़ी स्वच्छंद व आजाद होकर आजाद भारत में आजादी की हवा ले सके और अपने विचारों के माध्यम में समाज का कल्याण कर सके| आजादी का मतलब सिर्फ आजाद होना ही मात्र नहीं होता है| आजादी के उन कर्तव्यों को निभाना और उसका पूरी निष्ठा और श्रद्धाभाव से उन कर्तव्यों का निर्वहन करना जरूरी है जिसकी जरूरत आजाद भारत के अंदर आजाद देश के नागरिकों को है|
    महशूर शायर इकबाल ने कहा था:
    “वतन की फिक्र कर नादां मुसीबत आने वाली है
    तेरी बर्बादियों के मशवरे हैं आसमानों में,
    न समझोगे तो मिट जाओगे ऐ हिंदोस्तां वालो,
    तुम्हारी दास्तां तक भी न होगी दास्तानों में। ”

    भारत देश युवाओं का देश है| आज वर्तमान परिपेक्ष में युवाओं को एक शक्ति के रूप में देखा जाता है| युवा किसी राष्ट्र का एक मजबूत स्तंभ के रूप में है| यदि युवा शक्ति ठान ले हमें भारत को गरीबी,भुखमरी,बेरोजगारी,शोषण, सामाजिक कुरीतियों आदि को पूर्ण रूप से मिटा कर एक नए विकसित भारत और समृद्ध भारत को बनाना है तो इन युवा शक्ति को नए भारत के निर्माण हेतु दुनिया की कोई ताकत नहीं रोक सकती है| यह शक्ति आज की युवा पीढ़ी में है| प्रसिद्ध कवि गोपाल सिंह नेपाली ने ठीक ही कहा है:
    ” कर्णधार तू बना तो, हाथ में लगाम ले
    क्रांति को सफल बना, नसीब का न नाम ले
    भेद सर उठा रहा, मनुष्य को मिटा रहा,
    गिर रहा समाज , आज बाजुओं में थाम ले
    दे बदल नसीब , तू गरीब का सलाम ले!”

    अपना देश,अपनी माटी किसे प्यारा नहीं होता है? अपना देश अपनी माटी सबको प्यारा है| समाज में व्याप्त सामाजिक कुरुतियों, शोषण आदि से मुक्त करने की भी जिम्मेदारी हमारी है इसे जिम्मेदारी मात्र न समझा जाए इसे अपना मौलिक कर्तव्य समझे और समाज के अंदर व्याप्त सामाजिक बुराइयों को खत्म का एक नए और अखंड भारत के निर्माण हेतु एक दूसरे का कंधे से कंधा मिलाकर साथ दे| भारत को बुलंदियों पर ले जाने का सपना महापुरुषों ने देखा था उन सपनों का साकार कर अखंड भारत का निर्माण करने की जिम्मेदारी आज के वर्तमान पीढ़ी पर है|
    राहत इंदौरी जी लिखते है:
    ” हम अपनी जान के दुश्मन को भी जान कहते है
    मोहब्बत के इसी मिट्टी को हम हिंदुस्तान कहते है|”

    दिव्यांश
    अध्यनरत छात्र नवोदय विद्यालय जमुई
    12वीं कक्षा

दिल्ली: अखिल भारतीय दाँगी क्षत्रिय संघ के राष्ट्रीय चुनाव में कुल 6 लोगों ने किया नामांकन

  1. दिल्ली: अखिल भारतीय दाँगी क्षत्रिय संघ के राष्ट्रीय चुनाव में कुल 6 लोगों ने किया नामांक

    अखिल भारतीय दाँगी क्षत्रिय संघ के राष्ट्रीय चुनाव में नामांकन की तिथि समाप्त होने के बाद आज नामांकन करने वालों की सूची जारी की गई है उसके अनुसार कुल 6 लोगों ने नामांकन किया है। अध्यक्ष, महासचिव व कोषाध्यक्ष के प्रत्येक पद के लिए केवल दो दो नामांकन आये हैं। एक राजस्थान व एक दिल्ली से है बाकी चार नामांकन बिहार से है। गुजरात, छतीसगढ़, पश्चिम बंगाल, झारखंड से कोई भी उम्मीदवार नहीं है। मध्यप्रदेश जहां दाँगी जाति की सबसे ज्यादा संख्यां है, बाकी राज्यों की अपेक्षा वहाँ के लोग ज्यादा समृद्ध हैं वहां से भी किसी पद के लिए कोई नामांकन नहीं हुआ है।

    निर्भीक, निष्पक्ष, व ताजातरीन खबरों के लिए जुड़े रहें DWO News से
    https://www.facebook.com/DWO-News-103737564325564/

मध्य प्रदेश के रतलाम जिले में अखिल भारतीय क्षत्रिय दांगी संघ की बैठक संपन्न

 रतलाम जिले में अखिल भारतीय क्षत्रिय दांगी समाज की सामाजिक मीटिंग  बड़े धूमधाम से आयोजित की गई.  ढोल बाजे नगाड़े के साथ समाज के पदाधिकारियों का भव्य स्वागत किया गया.  कार्यक्रम के दौरान

  1. “इस दौरान कार्यक्रम को सार्थक रूप देने पहुंचे हमारे राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री हजारीलाल जी दांगी उपाध्यक्ष डाक्टर हीरालाल जी मौर्य, वरिष्ठ समाज सेवी बालचंद दांगी जी, वरिष्ठ समाज सेवी पदम सिंह दांगी जी, युवा संघ के प्रदेश उपाध्यक्ष नरहरी जी दांगी, श्रवण जी दांगी , प्रदेश अध्यक्ष रवि दांगी, राजगढ़ युवा संघ जिला अध्यक्ष कुशाल जी दांगी , राष्ट्रीय सचिव राठौर जी प्रदेश युवा संघ सचिव श्री राम जी दांगी, रामबाबू जी दांगी, संजय जी दांगी, मंगल जी दांगी, अनुज रतलाम जिले के युवा संघ जिला अध्यक्ष कमल जी दांगी आदि उपस्थित थे।

 

अमर शहीद जगदेव प्रसाद की 47वें शहादत दिवस पर देश भर में दी गई श्रद्धांजलि

भारत लेलिन अमर शहीद जगदेव प्रसाद जी के 47वें शहादत दिवस पर आज जगदेव पथ पटना वेली रोड पर अवस्थित मूर्ति पर माल्यार्पण के लिए उमड़ी भीड़।

अर्जुन प्रसाद शहीद जगदेव प्रसाद मूर्ति अनावरण मंच के संयोजक और दाँगी वर्ल्ड ऑर्गनाइजेशन के राजनीतिक मंच के प्रदेश सचिव के अध्यझता में झंडोतोलन किया गया। ततपश्चात केंद्रीय मंत्री तथा शहीद जगदेव प्रसाद के पुत्र नागमणि बाबू, बिहार विधान परिषद के सदस्य डॉ कुमुद वर्मा, पूर्व मंत्री अर्जुन मण्डल, पूर्व विधायक सुरेंद्र प्रसाद सिन्हा, राजनीतिक विंग के बिहार प्रदेश अध्यझ सुनील कुमार वर्मा , रमेश दांगी प्रदेश कोषाध्यक्ष, प्रसून कुमार टिंकू प्रदेश सचिव, जितेंद्र दांगी प्रदेश महासचिव युथ ब्रिगेड, शेखर राजा प्रदेश उपाध्यक्ष यूथ बिग्रेड, कुंदनलाल बाबू, नित्यानंद कमल दांगी, रीना वर्मा दांगी प्रदेश सचिव महिला विंग, मिथलेश कुमार, शशि निरंजन दांगी, केतन कुमार, के साथ साथ सैकड़ों लोगों ने माल्यार्पण किय। इसके बाद अमर शहीद जगदेव बाबू के इतिहास को बताते हुए उनके द्वारा किए गए कामों कि चर्चा कि गई,
उनके बताए गए चिन्हों पर चलने की बात बताई गई।

अमर शहीद जगदेव प्रसाद की 47वें शहादत दिवस पर देश भर में दी गई श्रद्धांजलि

शहीद बाबू जगदेव प्रसाद अमर रहे

जिस लड़ाई की बुनियाद आज मै डाल रहा हूँ, वह लम्बी और कठिन होगी। चूंकि मै एक क्रांतिकारी पार्टी का निर्माण कर रहा हूँ इसलिए इसमें आने-जाने वालों की कमी नहीं रहेगी परन्तु इसकी धारा रुकेगी नहीं। इसमें पहली पीढ़ी के लोग मारे जायेगे, दूसरी पीढ़ी के लोग जेल जायेगे तथा तीसरी पीढ़ी के लोग राज करेंगे। जीत अंततोगत्वा हमारी ही होगी।”
बाबू जगदेव प्रसाद ( 2 फरवरी 1922 – 5 सितम्बर 1974)

DWO ने वेब सीरीज छत्रसाल पर रोक लगाये जाने एवं प्रोडयूसर अनादि चतुर्वेदी के खिलाफ कानूनी कारवाई करने को लेकर गया DM अभिषेक सिंह को सौपा ज्ञापन

GAYA.
एम.एक्स.प्लेयर पर चलाये जा रहे वेब सीरीज छत्रसाल के एपीसोड नंबर-13 पर रोक लगाये जाने एवं प्रोडयूसर अनादि चतुर्वेदी के खिलाफ कानूनी कारवाई करने के लिए गया जिला पदाधिकारी अभिषेक सिंह को ज्ञापन सौपा है. इस बीच दांगी वर्ल्ड ऑर्गनाइजेशन के जिलाध्यक्ष मणिभूषण दांगी ने मीडिया कर्मियों को बताया कि
सेवा में,
एम.एक्स.प्लेयर द्वारा चलाये जा रहे वेब सीरीज छत्रसाल में बुंदेलखंड का वर्तमान और भविष्य औरंगजेब को बताया जाना इतिहास से परे है।

Web सीरीज MX player के निर्माता और निदेशक अनादि चतुर्वेदी द्वारा एपिसोड नं- 13 में
छत्रसाल के दरवार में मनसा के जगीरदार केशव राय दांगी को दिखाया जा रहा है कि वे मुग़ल शासक औरंगजेब का पक्ष रख रहे हैं. लेकिन इतिहास में इस तरह की घटना का वर्णन ही नहीं है. सीरीज में अभिनय और पात्र से समाज को कड़ी आपत्ति है. माफीनामा
भरी दरबार में मुगलों का गुलाम और औरंगजेब के तलवे चाटने वाला शब्द का प्रयोग कर उन्हें अपमानित करने का कुत्सित कार्य किया गया है. इतिहास को तोड़ मरोड़कर दिखाया जाना राजाओं के सम्मान के खिलफ है।
बुंदेलखंड का संक्षिप्त इतिहास, हिस्ट्री ऑफ बुंदेला, जिला के गजटियर आदि लिखित सारे प्रमाणिक गजटियर से यह स्पष्ट होता है कि छत्रसाल के दरवार में केशव राय दाँगी कभी नहीं गये थे. दाँगी वीर योद्धा का रोल निभाने वाला व्यक्ति भी वीर योद्धा कि भूमिका में नहीं है , ऐसे मनगढ़ंत कहानी दिखाकर इतिहास को सच के बजाय झूठ दिखाकर हमारे मध्य भारत के बड़े जागीरदार,बाँसा के वीर योद्धा राजा केशव राय दांगी जी के राष्ट्रभक्ति पर प्रश्नचिन्ह लगाया गया है.
एक महान राजा के चरित्र एवं उनकी छवि को कुत्सित भावना से अपमानितकरना, सत्य से परे, मनगढ़ंत, अप्रमाणिक और कुत्सित दिमाग की उपज यह प्रसारण अति आपत्तिजनक है. इसे देश के समस्त हिन्दुओं और दाँगी समाज की भावनाओं को ठेस पहुंचा है एवं समाज कलंकित हुआ है.
सीरीज में मुगल शासक औरंगजेब का पक्ष रखते हुए औरंगजेब के तलवे चाटने वाले शब्दों का प्रयोग कर अपमानित करने का कार्य किया गया है, जो इतिहास से कहीं मेल नहीं खाता है और पूर्ण रूप से गलत है। जागीरदार केशव राय दांगी के किस्से आज भी पूरे भारत में शान से सुने और पढ़े जाते हैं. उनकी शक्ति के सामने मुगल सिर उठाने की हिम्मत नहीं करते थे, मुगल के सरहद में प्रवेश से भय खाते थे. इनके आसपास के क्षेत्रों में मुगलों की चौकियों का भी कहीं जिक्र नहीं मिलता.
ऐसे में एक समाज विशेष की देशभक्ति और महाराजा कि राष्टभक्ति और धार्मिक भावनाओं पर सीध प्रहार किया जा रहा है।
इस घटना से संपूर्ण भारत के युवाओं में रोष व्याप्त है. DWO एवं देश भर के युवाओं ने छत्रशाल वेब सीरीज को बंद कराने, प्रोडयूसर अनादि चतुर्वेदी पर क़ानूनी करवाई, कलाकार बदलनेऔर इससे जुड़े सभी दोषी लोगों पर कड़ी करवाई करने कि माँग किया है.
इस मौके पर प्रदेश पॉलटिक्स विंग के महासचिव दांगी अजीत कुमार लोहिया,महिला विंग के जिलाध्यक्ष दांगी अंजू रानी और प्रदेश सांस्कृतिक को-ऑडिनेटर दांगी सोनू कुमार दिनकर जी के साथ अन्य लोग उपस्थित थे ।

सड़क दुर्घटना में उप मुखिया गीता देवी की निधन

प्रखण्ड गुरारू, पंचायत -कोची , ग्राम- कोची निवासी श्री मती दाॅंगी गीता देवी (उप मुखिया) के पति मिथलेश प्रसाद दाॅंगी जी का निधन मोटरसाइकिल एक्सिडेंट में में हो जाने से “अखिल भारतीय दाॅंगी क्षत्रिय संघ परिवार गुरूआ ” मर्माहत है, इस दुखद बेला में तथागत गौतम बुद्ध स्म्. दाॅंगी मिथिलेश प्रसाद जी के प्राण-वायु को यथा स्थान दें एवं शोक संतप्त परिवार जनों को संबल प्रदान करें ! इस दुखद बेला में दुख व्यक्त करते हुए पूर्व विधायक रामचन्द्र प्रसाद सिंह जी ने कहा कि स्म. मिथिलेश प्रसाद दाॅंगी जीवट प्रकृति के व्यक्ति थे जिसे समाज ने आज खो दिया है,संघ के अध्यक्ष सतेन्द्र प्रसाद दाॅंगी जी ने कहा कि स्म्. मिथिलेश प्रसाद दाॅंगी जी की असमय निधन से पूरे दाॅंगी समाज को अपूरणीय क्षति हुई है जिसका भरपाई हो पाना मुश्किल है, दुख व्यक्त करने में संघ के सचिव दाॅंगी रजनीकांत राजु, संघ के कोषाध्यक्ष दाॅंगी शंभु प्रसाद, संघ के जिला उपाध्यक्ष, शशिभूषण कुमार दाॅंगी ( सेवा निवृत्त शिक्षक), दाॅंगी स्वयं सहायता कोष के अध्यक्ष, दाॅंगी राजकुमार प्रसाद सिंह (पूर्व प्राचार्य), स्वयं सहायता कोष के सचिव राजीव कुमार दाॅंगी, दाॅंगी चुनाव समिति के सदस्य डाॅक्टर कपील देव सिंह, पत्रकार डाॅक्टर प्रमोद कुमार वर्मा, अजय दाॅंगी जदयू नेता, पूर्व मुखिया मुरारी प्रसाद दाॅंगी, निवर्तमान मुखिया कमला देवी, आनंद कुमार दाॅंगी ( जिला मंत्री भाजपा), अमरेन्द्र कुमार दाॅंगी, जगलाल प्रसाद दाॅंगी, दाॅंगी राजदेव प्रसाद सिंह ( सेवा निवृत्त शिक्षक), संजीव कुमार दाॅंगी (भारत गैस एजेंसी के संचालक), नंदकिशोर प्रसाद दाॅंगी, भाजपा नेता, राजेन्द्र प्रसाद सिंह दाॅंगी, ( सेवा निवृत्त शिक्षक), इंजीनियर अमरेन्द्र कुमार दाॅंगी, पूर्व मुखिया, रविरंजन कुमार दाॅंगी, के साथ संघ के सभी सदस्यों ने इस दुखद बेला में श्रद्धांजलि अर्पित किये हैं

गुरूआ में मनी लोकरत्न” उपेन्द्रनाथ वर्मा जी की101 वीं जयंती

आज 25 अगस्त 2021 दिन बुधवार को गुरूआ पंचायत सरकार भवन के सभागार में अखिल भारतीय दाॅंगी क्षत्रिय संघ गुरूआ के तत्वावधान में 11:45 बजे पूरवाहन से, युगपुरुष प्रखर समाजवादी, डाॅक्टर लोहिया जी के सच्चे हमसफ़र, बिहार लेलीन अमर शहीद जगदेव प्रसाद जी के कदम से कदम मिलाकर चलने वाले वीर जांबाज “” लोकरत्न”” उपेन्द्रनाथ वर्मा जी की101 वीं जयंती समारोह, संघ के अध्यक्ष सतेन्द्र प्रसाद दाॅंगी जी के सदारथ में भारत के संविधान के उद्देशिका को पढ़कर जयंती समारोह का शुभारंभ , “लोकरत्न” उपेन्द्रनाथ वर्मा जी के तैलचित्र पर संयुक्त रूप से माल्यार्पण करके किया गया, इस अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में पूर्व विधायक, जदयू के वरिष्ठ नेता रामचन्द्र प्रसाद सिंह, ने सिरकत की! इस समारोह में, अ. भा. दाॅं. क्ष. संघ के वरिष्ठ सदस्य, दाॅंगी राम लखन सिन्हा सेवा निवृत्त शिक्षक, देवरिया, डाॅक्टर कपील देव सिंह, गुरूआ, विष्णु देव सिंह पूर्व मुखिया, तरोबा, दाॅंगी जगलाल प्रसाद, टंडवा,इजीनियर दाॅंगी अमरेन्द्र कुमार पूर्व मुखिया, वाजिद चक , दाॅंगी भगवान प्रसाद, गडेरी बिगहा, राजीव कुमार (दाॅंगी स्वयं सहायता कोष के सचिव) ईटवां , दाॅंगी रजनीकांत राजु प्रखण्ड सचिव ,जलपा ,दाॅंगी राजदेव प्रसाद सिंह सेवा निवृत्त शिक्षक, दुब्बा , यदुनंदन वर्मा तरोबा, दाॅंगी राजेन्द्र प्रसाद सिंह सेवा निवृत्त शिक्षक, शेरपुर, दाॅंगी चंद्रमौली प्रसाद सेवा निवृत्त शिक्षक शेरपुर, दाॅंगी सचिच्दानंद शाही, शेरपुर, दाॅंगी कमला देवी निवर्तमान मुखिया गुरूआ, प्राध्यापिका दाॅंगी निभा कुमारी गुरूआ, आनंद कुमार दाॅंगी जिला मंत्री भाजपा गुरूआ ,मुरारी प्रसाद दाॅंगी, पूर्व मुखिया, दाॅंगीनगर गुरूआ, आशुतोष कुमार दाॅंगी ( प्रखण्ड अध्यक्ष, अतिपिछड़ा प्रकोष्ठ जदयू) ईटवां, दाॅंगी राणा अश्रुबीन आजाद, दाॅंगी रविरंजन कुमार छोटु ईटवां , बालमुकुंद प्रसाद दाॅंगी, बिरहिमा, प्रदीप कुमार दाॅंगी, बिरहिमा, चितरंजन कुमार दाॅंगी निवर्तमान सरपंच, सेसारी, दाॅंगी श्याम बिहारी सिंह पिपराही, दाॅंगी विनोद कुमार वाजिद चक, दाॅंगी रितेश कुमार पिपराही, कमलेश कुमार दाॅंगी, ईटवां, संजीव कुमार वर्मा, चंदोखरा, कृष्ण कुमार दाॅंगी, अतोपुर , रघुवीर प्रसाद दाॅंगी, अतोपुर, दाॅंगी अनिल कुमार वर्मा, पिपराही, महेश सिंह दाॅंगी, पिरवां, दाॅंगी कामेश्वर प्रसाद जिला उपाध्यक्ष ईटवां, दाॅंगी कामेश्वर प्रसाद दुब्बा, इजीनियर दाॅंगी पवन कुमार ( शिक्षक) मननबिगहा, संजीत कुमार दाॅंगी , सेसारी, शिक्षक निरंजन कुमार दाॅंगी सेसारी, दाॅंगी नथुन महतो गुरूआ, सुनिल कुमार दाॅंगी पलुहारा, नवलकिशोर सिंह दाॅंगी पलुहारा, रविन्द्र कुमार दाॅंगी बढ़हीबिगहा, सरयू प्रसाद दाॅंगी काज, नंदकिशोर प्रसाद दाॅंगी भाजपा नेता मिरचक, मुरलीधर प्रसाद देवरिया, दाॅंगी अलख देव नारायण सिंह, सुरेश प्रसाद दाॅंगी कमलेश प्रसाद दाॅंगी , दाॅंगीनगर गुरूआ , दाॅंगी प्रमोद कुमार कोयरी बिगहा,दाॅंगी विजय प्रसाद दाॅंगीनगर गुरूआ के साथ दाॅंगी संघ के सैकड़ों कार्यकर्तायों ने माल्यार्पण किया! “लोकरत्न” उपेन्द्रनाथ वर्मा जी के जयंती पर पूर्व विधायक राम चन्द्र प्रसाद सिंह जी ने कहा कि स्म. वर्मा जी हमारे अभिभावक ही नहीं बल्कि ये हमारे राजनीतिक गुरु रहे हैं. ये प्रखर समाजवादी के साथ साथ बिहार एवं भारत सरकार के मंत्री रहकर समाज एवं राष्ट्र को एक अलग पहचान दिलाई है ,ये पुजा पाठ, रस्म रिवाज अंधविश्वास, पाखंड, तिलक दहेज, के घोर विरोधी रहे थे आज के युवाओं को इन्हें रोल मॉडल के रूप में आत्मसात करके राजनीति एवं समाजिक क्षेत्र में परचम लहराने की समय की मांग है. क्योंकि इन्होंने “नवयुवक संघ” बनाकर 100 गाँव के युवाओं को सदस्य बनाने के लिए संकल्प पत्र पर खुन से हस्ताक्षर करना/अंगुठा का निशान लगाना और जमींदारी जुल्म के खिलाफ बिगुल फूंका करते थे. 1942 के भारत छोड़ो आंदोलन में इस संगठन ने मगध में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी. इन्होंने जयप्रकाश जी के कहने पर “हिन्द किसान पंचायत” के माध्यम से दलित वंचित उपेक्षितों के प्रति बहुत कसकर ध्यान दिया. भागवती देवी, बिफाई दास, ईश्वर दास, बाबा सुकन दास, मुगेश्वर मंडल, केशव मुसहर., संतन लोहिया जैसे अनेक दलित को राजनीति एवं समाज की मुख्य धारा से जोड़ने का काम किये. वर्मा जी शिक्षा के प्रचार प्रसार के लिए मगध प्रमंडल में 24 हाई स्कूल,एवं 2 काॅलेज की भी स्थापना किया और उन्हें पोषित किया. इन्होंने “मूक आवाज”” नामक मासिक पत्रिका का भी संपादन एवं प्रकाशन लगातार 32 वषोॅ तक किया. स्म्. वर्मा जी 5 वार हिन्द किसान पंचायत के महामंत्री रहें, 9 बार बिहार समाजवादी दल के अध्यक्ष रहें, दो बार बिहार विधानसभा के सदस्य रहें, दो बार बिहार सरकार में मंत्री रहें, दो बार लोकसभा के सदस्य रहें, और एक बार भारत सरकार के मंत्री भी रहे, लेकिन ये कभी भी पद का अभिमान नहीं किया! ये निस्वार्थ भाव से जनता के कल्याण के लिए सदैव प्रयत्नशील रहे! ये 2009 में मुख्य मंत्री नीतिश कुमार जी के द्वारा राज्य किसान आयोग के अध्यक्ष बनाये गये एवं कैबिनेट मंत्री का दर्जा दिया गया! इनकी मृत्यु 28 अगस्त 2011 को पटना के अस्पताल में हो गई.राज्य सरकार द्वारा इन्हें राजकीय सम्मान दिया गया. उनकी याद में संघ द्वारा वृक्षारोपण भी किया गया. यद्यपि ” लोक-रत्न ” उपेन्द्रनाथ वर्मा जी सशरीर हमारे बीच नहीं हैं परंतु उनका व्यक्तीत्व हमेशा हमारे समाज के लिए प्रेरणा स्रोत बने रहेगें . उनके चरणों में बहुत बहुत श्रद्धा सुमन अर्पित करते हैं,”लोकरत्न” उपेन्द्रनाथ वर्मा अमर रहें.

भोपाल जिले के बेरसिया में दांगी समाज के पदाधिकारियों ने सौंपे ज्ञापन

आज भोपाल जिले के बेरसिया में स्थानीय समाज बंधुओ के साथ sdm को एक ज्ञापन केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री भारत सरकार और मप्र के मुख्यमंत्री के नाम सौंपा तथा छत्रसाल वेबसिरीज के निर्माता निर्देशक अनादि चतुर्वेदी का पुतला दहन किया, विदित हो कि अनादि चतुर्वेदी द्वारा एक वेबसिरिज का प्रसारण यूट्यूब चैनल पर किया जा रहा है जिसमे बुंदेलखंड के मनसा राज्य के जागीरदार श्री केशवराय दांगी को मुगल शासक औरंगजेब का समर्थक बताया गया हैजो की इतिहास में उल्लेखित नही है इनके द्वारा कुछ दृश्यों को गलत तरीके से प्रस्तुत किया गया है। यदि इन दृश्यों को बंद नहीं किया गया तो दांगी समाज आगे भी आंदोलन जारी रखेगा इस अवसर पर राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री हजारीलाल जी दांगी, पूर्व विधायक श्री पुरुषोत्तम जी दांगी, बालचंद दांगी संपादक दांगी चेतना ,राष्ट्रीय सचिव श्री हुकमचंद जी राठौर, राजगढ़ जिले के युवा जिला अध्यक्ष श्री कुशलसिंह दांगी, श्री शिरोमणि सिंह जी दांगी, श्री किशोरसिंह जी भोपाल श्री रणधीर सिंह दांगी जिलाध्यक्ष भोपाल श्री मुकेश जी दांगी सरपंच भाटखेड़ा रियासत एवं बेरसिया क्षेत्र के सभी स्वजातीय बंधु बड़ी संख्या मे उपस्थित रहे ।

क्षत्रिय दांगी समाज सीहोर ने निकाला जुलूस और रैली, छत्रसाल सीरीज के खिलाफ सौंपा ज्ञापन

आज दिनांक 25/8 /2021 दिन बुधवार को क्षत्रिय दांगी समाज जिला सीहोर द्वारा श्यामपुर तहसील मैं श्रीमान तहसीलदार महोदय को सैकड़ों दांगी सदस्यों की उपस्थिति में जुलूस और रैली निकालकर ज्ञापन प्रस्तुत किया गया |
जिसका विवरण निम्न प्रकार रहा जैसे कि तय समय अनुसार 10:30 बजे समस्त दांगी समाज सदस्य गण तहसील कार्यालय में उपस्थित हुए एवं आधा घंटा उपस्थिति एवं तैयारी चर्चा की गई |
गर्मजोशी से जुलूस नारेबाजी के साथ में आदरणीय तहसीलदार महोदय को ज्ञापन प्रस्तुत किया गया इस कार्यक्रम में सैकड़ों दांगी भाइयों समाज सेवकों द्वारा बढ़ चढ़कर भाग लिया.
आज के कार्यक्रम में उपस्थित सदस्यों के नाम इस प्रकार हैं अनेक नाम मेरे पास दर्ज नहीं है क्योंकि कुछ सदस्यों के नाम नोट नहीं हो पाए हैं हमारे पास उनसे में क्षमा प्रार्थी हूं हमारे पूर्व अध्यक्ष राम सिंह जी दांगी श्री राजेंद्र सिंह जी सेमरा दांगी, भगवत सिंह जी बिछिया ,महेंद्र सिंह जी दांगी रेड रोज स्कूल, श्री महेंद्र सिंह जी दांगी सीहोर ,युवा सदस्य भूपेंद्र सिंह जी ठाकुर ,सुरेंद्र सिंह जी रायपुर ,राज दांगी होंडा शोरूम ,लक्ष्मण सिंह जी नेताजी सिराङी ,बाबूलाल जी पटेल साहब सेमरा दांगी ,विनय सिंह जी सेमरा दांगी ,मनोहर सिंह जी सेमरा दांगी ,राजपाल दांगी सेमरा दांगी, हुकुम सिंह जी दांगी सेमरा दांगी ,महेश जी घाट पलासी ,विकास जी कसारखेड़ी ,गंभीर सिंह जी खाई खेड़ा ,कृष्ण पाल सिंह जी पान बिहार ,अमूल दांगी जी कसार खेड़ी, दीपू दांगी जी डोगरा, प्रदीप डांगी डोबरा ,अवतार जी पलासी ,बहादुर जी रायपुर रामअवतार जी घाट पलासी ,राजा दांगी सोंठी ,विक्रम सिंह जी दांगी सोंठी ,बलवीर सिंह जी दांगी सोंठी ,रिंकू जी, भूपेंद्र जी सिराङी ,जीवन सिंह जी पान बिहार ,मांगीलाल जी सौठी,सुरेंद्र जी महुआ खेड़ा ,जीवन जीवन सिंह जी सोढ़ी ,विक्रम सिंह जी सोठी ,भूरा जी पलासी ,सुरेंद्र जी पलासी ,बलवीर जी सोठी, मोहन जी सिराङी, रिंकू दांगी सोंठी ,बृजेंद्र दांगी सोंठी ,राहुल दांगी सोंठी ,प्रदीप कुमार दांगी सोंठी ,आकाश दांगी बिछिया ,रोहित दांगी सोंठी ,राहुल दांगी श्यामपुर ,अभिषेक दांगी सोंठी ,रवि दांगी सोंठी ,अरविंद दांगी रायपुर ,विनय सिंह दांगी सेमरा दांगी ,शक्ति सिंह जी नोनी खेड़ी ,गोविंद सिंह जी दांगी बरखेड़ा देवा, कृपाल सिंह दांगी घाट पलासी ,तीरथसिंह जी सरपंच बिछिया, रामबाबू दांगी शिक्षक व्यावरा,गिरवर सिंह जी दांगी सरपंच हतिया खेड़ा भारत सिंह दांगी शिक्षक व्यावरा,अनोखी लाल जी नोनी खेड़ी श्री मांगीलाल जी सौठी,हमारे मीडिया प्रभारी सुखवेन्द्र जी नेपाल जी सिराङी, जीवन सिंह दांगी ,सोठी महेश जी ,आकाश जी ,सुरेश जी ,अवतार जी पलाशी, ऐसे अनेक उत्साहवर्धक कार्यकर्ता हमारी दांगी समाज के शुभचिंतक के द्वारा नारेबाजी करते हुए गर्मजोशी से आज का ज्ञापन कार्यक्रम को सफल बनाया ज्ञापन प्रस्तुत किया इसमें विशेष सहयोगी हमारे भूपेन जी सीहोर द्वारा बैनर पोस्टर उपलब्ध करवाएं अंत में सभी उपस्थित सदस्यों को परम आदरणीय श्री तीरथ सिंह जी सरपंच साहब एवं भगवत सिंह जी दोनों भाइयों के द्वारा समस्त सदस्यों को बैठक कुर्सी व्यवस्था कर चाय पानी का आयोजन कराया गया | इन सब सहयोगी कार्यकर्ता दांगी बंधुओं का तहे दिल से शुक्रिया कोटि-कोटि आभार धन्यवाद
जय दांगी समाज ,,जय भारत- भीकम सिंह दांगी